एक दिन... एक आदमी नेता हो गया

अगर भ्रष्ट नेताओं से गुरेज नहीं
फिर - परहेज किस बात से?
हमे माफिया डॉन भी मंजूर है.

दस्तक

“एक आदमी भीड़ में खो गया,
सुसरा नेता हो गया.”
वाराणसी में कई बरस पहले हास्य-व्यंग्य के जाने माने कवि चकाचक बनारसी ने राजेंद्र प्रसाद घाट पर यह कविता सुनाई – और सामने सीढ़ियों पर बैठे हजारों लोगों के ठहाकों से आकाश गूंज उठा.
धीरे धीरे उन ठहाकों की आवाज मद्धिम तो जरूर पड़ गई – मगर – आज भी खत्म नहीं हुई.

बैठक

“संसद में चोर, बलात्कारी और हत्यारे हैं तो देश का भला कैसे होगा.”
ग्रेटर नोएडा की एक रैली में अरविंद केजरीवाल ने ये बात कही थी तो नेता आपे से बाहर होने लगे – लेकिन चेतावनी देकर चुप हो गये.
वक्त बीता...
हालात बदले...
केजरीवाल के बयान भी बदले
बदले और बदलते गये.

कुछ दिन बाद...
“हम किसी को समर्थन नहीं देंगे,
हम किसी से समर्थन नहीं लेंगे.”

उसके बाद...
“हम समर्थन तो कतई नहीं देंगे,
हम ‘सशर्त’ समर्थन ले सकते हैं.”

थोड़े दिन बाद...
देश की जनता के लिए
हम उनसे समर्थन लेंगे

और थोड़े दिन बाद...
देश की जनता के लिए
हम उन्हें समर्थन वापस कर रहे हैं.

पढ़ें: मोदी के खिलाफ मैदान में कांग्रेस ने पुराने भाजपाई को ही उतारा

थोड़े दिन बाद...
देश के लिए मुख्यमंत्री पद की
ऐसी सौ कुर्सियां कुर्बान...

और थोड़े दिन बाद...
हम से गलती हो गई
हमने इस्तीफा जल्दबाजी में दे दिया.

थोड़े दिन पहले...
अगर भ्रष्ट नेताओं से गुरेज नहीं
फिर - परहेज किस बात से?
हमे माफिया डॉन भी मंजूर है.

बात सही है.
जब एक पार्टी जेल से आकर चुनाव प्रचार कर रहे सजायाफ्ता नेता के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ सकती है, तो कोई पार्टी जेल में बंद माफिया डॉन से समर्थन क्यों नहीं ले सकती?

पढ़ें: अबकी बार बंटाधार, खंभे पर चढ़े मिस्त्री तो बीच गंगा में केजरीवार

रुख़सत

नेपथ्य से इरफान का डॉयलॉग सुनाई देता है...
“बीहड़ में बागी होते हैं... डकैत होते हैं संसद में... ”
तभी एक साथ कई लोगों के बगल से गुजरने की आहट सुनाई देती है.
घूमकर देखता हूं -
लोग वोट देने जा रहे हैं.
[इस बार तो नोटा का भी ऑप्शन है.]

1 comment:

  1. जनभावनाओं का दोहन ही बनाता है राजनीतिक गलियारों की राह, आदर्श हो जाता है हवा और रह जाती बस चाह।
    अब भी न जागें लोग और न हो परिणाम का आभास,झेलें राजनेताओं के हर वार और निकालें कंठ से आह

    ReplyDelete

आपके विचार बहुमूल्य हैं. अपनी बात जरूर रखें: