एक अराजकतावादी तानाशाह के पीछे पागल होता देश

सेक्स रैकेट और ड्रग्स के जाल को आप तोड़ना चाहते हैं, तो हम भी आपका पुरज़ोर समर्थन करते हैं, लेकिन बिना सबूत किसी भी औरत को वेश्या कह देंगे? उसकी मेडिकल जांच करा देंगे? औरत की अस्मिता कुछ भी नहीं?
सलाह:आम आदमी पार्टी के समर्थक इस लेख को ज़रूर पढ़ें और जवाब दें.
अपने कोढ़ को ही कैसे अपना आभूषण बना लिया जाए - यह कोई केजरी भाई से सीखे। अपने मंत्री सोमनाथ भारती की नालायकी से ध्यान बंटाने के लिए उन्होंने लोकलुभावन मुद्दों की ऐसी नौटंकी तैयार की है कि हाशिये पर पड़ी जनता, सिस्टम और पुलिस से नाराज़ जनता बिना आगा-पीछा सोचे उन्हें क्रांति का फरिश्ता मान बैठी है। ऐसे में यह अस्वाभाविक नहीं है कि मेरे कुछ मित्र आज मेरे विचारों से सहमत नहीं हैं। ऐसे असहमत मित्रों के सामने कुछ सवाल छोड़ रहा हूं-
1. अगर किसी स्वयंभू मंत्री को तुष्ट करने के लिए किसी दिन पुलिस बिना पुख्ता आधार के आपके घर में रेड कर दे और आपके घर की महिला को उठा ले जाए, तो भी क्या आपकी वैसी ही प्रतिक्रिया होगी, जैसी युगांडा की महिलाओं के साथ हुए बर्ताव के बाद हैं?

2. अपने घर की किसी महिला के साथ वैसा बर्ताव होने पर आप मंत्री की बर्खास्तगी मांगेंगे या सिस्टम की कमियों पर मुख्यमंत्री का भाषण सुनेंगे?

3. जब अमेरिका में हमारी राजनयिक देवयानी के साथ बदसलूकी हुई, तब तो हम बड़े उत्तेजित हो रहे थे, लेकिन अब जबकि अपने देश में दूसरे देशों की महिलाओं की अस्मिता का प्रश्न उठा है, तो हम सब दुःशासन की भूमिका में क्यों आ गए हैं? यहां यह भी याद रखें कि देवयानी के ख़िलाफ़ तो केस और कुछेक सबूत भी थे, लेकिन युगांडा की महिलाओं के ख़िलाफ़ सुनी-सुनाई बातों के अलावा मंत्री के पास क्या था?

अमेरिका की टाइम पत्रिका में अभी-अभी एक लेख छपा है, जिसमें भारत में नरेंद्र मोदी के उभार को लेकर अमेरिका की चिंता, दुविधा और मुश्किलों के बारे में बात की गई है। गुजरात दंगों के बाद से ही अमेरिका मोदी को वीज़ा देने से लगातार इनकार कर रहा है। ऐसे में अगर मोदी प्रधानमंत्री बन गए, तो उसके सामने काफी लज्जाजनक स्थिति पैदा हो जाएगी और अपने कई स्टैंड को लेकर उसे घुटनों पर आना पड़ेगा, जो कि उसे किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं है। देवयानी के मामले में भी हमने अच्छी तरह देख लिया है कि अमेरिका का "ईगो" तीसरी दुनिया के हम जैसे मुल्कों के सामने कितना बड़ा है।
4. सेक्स रैकेट और ड्रग्स के जाल को आप तोड़ना चाहते हैं, तो हम भी आपका पुरज़ोर समर्थन करते हैं, लेकिन बिना सबूत किसी भी औरत को वेश्या कह देंगे? उसकी मेडिकल जांच करा देंगे? औरत की अस्मिता कुछ भी नहीं?

5. क्या अपने सिस्टम से हम इतने नाराज़ हो गए हैं कि अब हमें कोई "रूल ऑफ लॉ" चाहिए ही नहीं? क्या हम अपने देश और अपने राज्यों में एैसी सरकारें चाहते हैं, जिसके कारिंदे बिना जांच, बिना सुनवाई, बिना सबूत "ऑन द स्पॉट" फैसला ले ले और किसी को भी सज़ा सुना दे?

6. क्या सरकार चलाने वाले लोग कोई भी आरोप लगने की स्थिति में हमारा-आपका अपने को डिफेंड करने का बुनियादी अधिकार भी छीन लें?

7. पूरे मामले की जांच के लिए लेफ्टिनेंट गवर्नर ने ज्यूडीशियल कमीशन बनाने का फ़ैसला कर क्या ग़लत किया? और अगर यह सचमुच ग़लत है, तो क्यों नहीं हम सब एक फ़ैसला कर लेते हैं कि अब से इस देश में किसी अदालत, किसी आयोग की ज़रूरत नहीं है?

8. क्या देश की सारी अदालतों और आयोगों को भंग कर केजरी-दरबार को ही त्वरित जांच, सुनवाई और फ़ैसला देने का अधिकार दे दें?

9. कल तक तो केजरीवाल सीबीआई को, पुलिस को... स्वायत्तता देने के लिए आंदोलन कर रहे थे। पूरा जनलोकपाल आंदोलन यही तो था। अब वे पुलिस को अपने अधीन लेने के लिए आंदोलन क्यों कर रहे हैं? आंदोलन इस बात के लिए क्यों नहीं कर रहे हैं कि पुलिस न हमारे अंदर हो, न तुम्हारे अंदर... वह स्वायत्त हो?

10. न्याय का सिद्धांत क्या कहता है? अगर बिना जांच, बिना सुनवाई, बिना सबूत तीनों पुलिस अफसरों को सस्पेंड कर दिया जाना चाहिए, तो फिर कम से कम जांच पूरी होने तक मंत्री को भी क्यों नहीं हटाया जाना चाहिए?

11. आज देश में दूसरों की सरकार है तो आप "रूल ऑफ लॉ" नहीं मानते, लेकिन कल अगर केंद्र में भी आपकी सरकार बन जाए, तो बिना "रूल ऑफ लॉ" के देश कैसे चलाएंगे? और तब अगर आप अपनी सुविधानुसार एक "रूल ऑफ लॉ" कायम भी कर लें और इसी तरह हर नागरिक या मंत्री या मुख्यमंत्री अपने-अपने हिसाब से उसे मानने से इनकार करने लगे, तब आप क्या करेंगे?

12. क्या केजरीवाल के व्यवहार से ऐसा नहीं लगता कि वह हड़बड़ाए हुए हैं? उनकी मंशा जनता का भला करने की है अथवा महीने-दो महीने के भीतर देश में ऐसा माहौल तैयार करने की है, जिससे लोकसभा चुनाव में फायदा उठाया जा सकें?

मुझे तो लगता है कि जो लोग लोकतंत्र और तानाशाही का फ़र्क़ और गुण-दोष नहीं समझते, ताज़ा घटनाक्रम के बाद सिर्फ़ वही केजरीवाल को सपोर्ट कर सकते हैं, लेकिन जो इसे समझते हैं, वे अब कभी उन्हें समर्थन देना नहीं चाहेंगे। यह सच है कि देश के दूसरे नागरिकों की तरह मैं भी कांग्रेस, बीजेपी और अन्य दलों की राजनीति से असहमत हूं, लेकिन आम आदमी पार्टी की राजनीति? यह तो विनाशकारी है। इसमें कांग्रेस और बीजेपी से भी ज़्यादा निजी स्वार्थ और महत्वाकांक्षा की पूर्ति की मंशा निहित दिखाई दे रही है। इसमें अपने ग़लत को भी सही ठहराने की दादागीरी दिखाई दे रही है। उन्हें तो देश में किसी पर विश्वास नहीं है, लेकिन वे चाहते हैं कि पूरा देश उनके अंधविश्वास में डूब जाए।

इसीलिए आज मुझे बड़े दुख और नाउम्मीदी के साथ कहना पड़ रहा है कि अगर केजरीवाल के हाथ में देश की सत्ता चली गई, तो पूरे देश में अराजकता फैल जाएगी, रूल ऑफ लॉ ख़त्म हो जाएगा, तमाम संस्थाओं की गरिमा समाप्त हो जाएगी, विकास के सारे काम रुक जाएंगे और अर्थव्यवस्था रसातल में चली जाएगी। वे नरेंद्र मोदी से ज़्यादा बड़े तानाशाह और तुगलकी मिज़ाज़ वाले शासक सिद्ध होंगे। जब व्यवस्थित कानून-व्यवस्था वाले राज्य में उनसे पांच हज़ार लोगों का जनता दरबार नहीं संभलता, तो एक अराजक मुल्क में लाखों-करोड़ों लोगों के हुजूम को वे कैसे संभाल पाएंगे?

मुझे तो अब यह आशंका भी हो रही है कि भारत को अस्थिर करने की कोई विदेशी साज़िश तो नहीं रची जा रही, ताकि मिडिल ईस्ट के मुल्कों की तरह यहां भी अराजकता फैलाकर इसकी बढ़ती ताकत को रोका जा सके।

अमेरिका की टाइम पत्रिका में अभी-अभी एक लेख छपा है, जिसमें भारत में नरेंद्र मोदी के उभार को लेकर अमेरिका की चिंता, दुविधा और मुश्किलों के बारे में बात की गई है। गुजरात दंगों के बाद से ही अमेरिका मोदी को वीज़ा देने से लगातार इनकार कर रहा है। ऐसे में अगर मोदी प्रधानमंत्री बन गए, तो उसके सामने काफी लज्जाजनक स्थिति पैदा हो जाएगी और अपने कई स्टैंड को लेकर उसे घुटनों पर आना पड़ेगा, जो कि उसे किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं है। देवयानी के मामले में भी हमने अच्छी तरह देख लिया है कि अमेरिका का "ईगो" तीसरी दुनिया के हम जैसे मुल्कों के सामने कितना बड़ा है।

ऐसे में यह आशंका निराधार नहीं है कि भारत में सत्ता-परिवर्तन की सारी स्क्रिप्ट अमेरिका में अथवा उसकी एजेंसियों या संस्थाओं द्वारा लिखी जा रही हो, ताकि दिल्ली में अपना रोबोट बिठाकर न्यूयॉर्क से उसे रिमोट के ज़रिए चलाया जा सके।

सारांश: केजरीवाल का विरोध आज मैं इतने पुख्ता तरीके से इसलिए कर रहा हूं, क्योंकि अब मुझे तनिक भी संदेह नहीं रह गया है कि लोकतंत्र में उनकी आस्था नहीं है और वे एक अराजकतावादी तानाशाह हैं। भारत जैसे मुल्क के लिए उनके प्रयोग विनाशकारी साबित होंगे। वे दूसरों की कमियां गिनाकर भोली-भाली दुखी जनता को तो लामबंद कर सकते हैं, लेकिन ख़ुद उनकी उम्मीदों को पूरा करने और सफ़ल लोकतांत्रिक सरकार चलाने का माद्दा नहीं रखते। साथ ही उनकी हड़बड़ाहट न सिर्फ़ मुझे निजी स्वार्थ और महत्वाकांक्षा से प्रेरित दिखाई दे रही है, बल्कि इसके पीछे मुझे विदेशी हाथ की भी आशंका नज़र आ रही है।

नोट: आम आदमी पार्टी के समर्थक चाहें तो मुझे दूसरी पार्टियों का एजेंट घोषित कर दें, लेकिन मेरे इस लेख को भविष्य के लिए संभालकर ज़रूर रख लें।
# अभिरंजन कुमार [लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं । ये उनके निजी विचार हैं]

No comments:

Post a Comment

आपके विचार बहुमूल्य हैं. अपनी बात जरूर रखें: